Khatu Shyam APP

Article

इस शिवरात्रि करें अपनी राशि के अनुसार शिव का पूजन :-

श्रावण शिवरात्रि का पर्व भगवान शिव और माता पार्वती की आराधना का दिन है, इस वर्ष यह पर्व  30 जुलाई 2019, मंगलवार को है, धार्मिक शास्त्रों में यह दिन सबसे पवित्र माना जाता है, इस दिन मात्र जलाभिषेक से भी भगवान शिव को प्रसन्न किया जा सकता है परन्तु क्या आप जानते हैं कि ज्योतिष शास्त्र में हर राशि के अनुसार पूजा बताई गई है तो आइये जानें अपनी राशिनुसार पूजन की संपूर्ण जानकारी :-

मेष:-

मेष राशि वाले जातकों के लिये लाल रंग शुभ होता है और इनका स्वामी मंगल होता है, इस राशि के लोग अगर शिव जी को लाल रंग व लाल चंदन के पुष्प अर्पण करते हैं तो निश्चय ही उनको लाभ पहुँचता है, जब आप पूजा कर रहे हो तो ’नागेश्वराय नमः’ मंत्र का जाप अवश्य करें।

वृषभ:-

वृषभ राशि वाले जातकों के लिये सफेद रंग शुभ होता है और इनका स्वामी शुक्र होता है, इस राशि वालों को चमेली के फूलों से शिव जी की पूजा करनी चाहिये, अपने कष्टों के छुटकारा पाने के लिये शिव रूद्राष्टक का पाठ अवश्य करना चाहिये।

यह भी पढ़ें:- जानिए भौम प्रदोष व्रत का महत्व एवं कथा !​

मिथुन:-

मिथुन राशि के जातक शिव जी को भांग व धतूरा अर्पण कर सकते हैं, इस राशि के स्वामी बुध हैं, इनके लिये पंचाक्षरी मंत्र ओम नमः शिवाय का जाप लाभकारी होता है।

कर्क:-

भगवान शिव ने अपनी जटाओं में चंद्रमा को धारण किया हुआ है इस राशि का स्वामी चंद्रमा ही है, कर्क राशि के जातकों को भांग मिश्रित दूध से शिवलिंग का अभिषेक करना चाहिये, अपने कष्टों का हरण चाहते हैं तो रूद्रष्टाध्यायी का पाठ अवश्य करें।

सिंह:-

सिंह राशि के जातकों को शिवलिंग पर कनेर के लाल रंग के पुष्प चढ़ाने चाहिये, इस राशि का स्वामी सूर्य है, इन्हें शिवालय में श्री शिव चालिसा का पाठ भी अवश्य करना चाहिये।

यह भी पढ़ें:- सनातन धर्म में ध्वजा का महत्व एवं विशेषता !​

कन्या:-

कन्या राशि के जातकों को शिव जी की पूजा के लिये बेलपत्र, धतूरा, भांग अन्य सामग्री शिवलिंग पर अर्पण करनी चाहिये, इस राशि के स्वामी बुध माने जाते हैं और साथ ही साथ ओम नमः शिवाय मंत्र का जाप करना बहुत लाभकारी रहता है।

तुला:-

तुला राशि के जातकों को मिश्री या चीनी से युक्त दूध से ही शिवलिंग का जलाभिषेक करना चाहिये, इस राशि के स्वामी शुक्र माने जाते हैं, इसके साथ ही शिव जी के सहस्त्रनामों का जाप करना भी इस राशि के जातकों के लिये शुभ फलदायी होता है।

वृश्चिक:-

वृश्चिक राशि के जातकों को बेलपत्र की जड़ व गुलाब के फूलों से भगवान शिव की पूजा करनी चाहिये, इस राशि का स्वामी मंगल है, इन्हें शिव जी की पूजा करते समय रूद्राष्टक का पाठ अवश्य करना चाहिये ऐसा करने से इनके लिये भाग्य के द्वार खुल जाते हैं।

धनु:-

धनु राशि के जातकों को पीला रंग अधिक प्रिय होता है, इस राशि का स्वामी बृहस्पति होता है, इस राशि के जातक अगर शिव जी की कृपा दृष्टि अपने ऊपर चाहते हैं तो उन्हें प्रातः काल ही उठकर पीले रंग के पुष्पों से भगवान शिव की पूजा करनी चाहिये, खीर से भगवान को भोग लगाना चाहिये, अपने कष्टों से मुक्ति पाने के लिये इन्हें शिवाष्टक का पाठ अवश्य करना चाहिये।

भक्ति दर्शन के नए अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर फॉलो करें

भक्ति दर्शन एंड्रॉयड मोबाइल ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें

मकर:-

मकर राशि के जातकों को धतूरा, भांग, अष्टगंध आदि से भगवान शिव की पूजा करनी चाहिये ऐसा करने से आपके जीवन में शांति व समृद्वि बनी रहेगी, इस राशि का स्वामी शनि होता है, शिव जी की पूजा करते हुए पार्वतीनाथाय नमः मंत्र का जाप अवश्य करना चाहिये।

यह भी पढ़ें:- अवश्य मनाएं वात्सल्य की प्रतिमा माँ यशोदा की जयंती !​

कुम्भ:-

कुम्भ राशि के जातकों को शिवलिंग का अभिषेक गन्ने के रस से करना चाहिये, इस राशि का स्वामी शनि होता है, अगर धन धान्य में बढ़ोतरी चाहते हैं तो शिवाष्टक का पाठ अवश्य करें, आपको बहुत जल्दी अच्छे परिणाम मिलने लगेंगे।

मीन:-

मीन राशि के जातकों को पंचामृत, दही, दूध व पीले रंग के पुष्प शिवलिंग पर अर्पण करने चाहिये, इस राशि का स्वामी बृहस्पति होता है, अगर अपने घर में सुख समृद्धि, धन धान्य में वृद्धि चाहते हैं तो पंचाक्षरी मंत्र ओम नमः शिवाय का जाप चंदन की माला से 108 बार अवश्य करें।

संबंधित लेख :​​​​