profile author img
0 0 0
Loading...

Devi Chitralekha

Join Date : 2017-09-29

संक्षिप्त परिचय

एक उम्र में जब बच्चा अपने माता-पिता पर ही निर्भर रहता है, ऐसी उम्र में देवी जी ने कई "भागवत कथाओ" का सफलतापूर्वक प्रचार किया है। वह दुनिया भर में भक्तों से मिली है, देवी जी के लिए उनके सभी भक्त गहरी श्रद्धा रखते हैं।​

उनकी ज़िंदगी का एक और एकमात्र उद्देश्य पूरे जीवन में  "राधे कृष्णा और हरे कृष्णा मंत्र" की लहर को फैलाना है। अपने गुरु की इच्छा के अनुकरण में, वह पूरी तरह से इस धार्मिक कार्य में तल्लीन हुई है।

चित्रलेखा ने कहा कि यदि किसी शराबी को शराब से ज्यादा नशीली कोई चीज पिला दी जाए, तो वह शराब छोड़ देगा। भगवान की कथा से नशीली कोई चीज नहीं है। हर आदत का एकमात्र निदान है, प्रभु भजन। आज घरों से रामायण, गीता और श्रीमद्भागवत जैसे पवित्र धार्मिक ग्रंथ गायब हो गए। सही अर्थों में तो भगवान का साकार रूप ही श्रीमद्भागवत है।